Thursday, April 2, 2020

पापा ने की मेरी गीली चूत की चुदाई

मेरा नाम डिम्पल हैं और मेरी उम्र 18 साल हैं। मेरी मां का तलाक मेरे पिता से 6 महीने पहले हो गया था। और इसके कुछ महीनों बाद ही मेरी मां ने उनके ऑफिस के बॉस से संबंध बना लिया। मेरे सौतेले पिता एक बिजनेसमैन हैं। मेरी मां ने उनसे संबंध बनाने के पीछे दो कारण थे। पहला उसके पास बेशुमार पैसा था ओर दूसरा वह दिखने में बहुत ही हॉट किस्म के आदमी हैं। वह मेरी मां से करीब 5 साल उम्र में छोटे हैं। जहां तक मुझे पता हैं। मेरी मां का चक्कर उसने साथ पिछले 2 साले से चल रहा था।
मेरे सौतेले पिता का रवैया मेरे प्रति बहुत ही विनम्र ओर मजाकिया हैं। कुछ महीनों से उनके साथ रहने की वजह से मैं उनसे घुलमिल गई हूं। मुझे आज भी याद है जब मैं उनसे पहली बार मिली थी। मुझे अपनी आंखो पे विश्वास नहीं हुआ कि ये मेरे सौतेले पिता हैं। सही मायने में वो एक जेंटलमैन हैं।
आज रविवार का दिन हैं। ओर बाहर मौसम बहुत सुहाना हैं। क्योंकि रात को पहली वर्षा हुई। हल्की धूप के साथ बाहर बहुत ही मन्द हवा चल रही हैं। जो की मुझे बहुत पसंद हैं। मेरी आज सुबह 10 बजे एक्स्ट्रा क्लास हैं। जिसकी वजह से में जल्दी उठ गई। मैने जल्दी से शॉवर लिया और रूम में जाके कपड़े पहन लिए। मैने मिनी स्कर्ट पे टीशर्ट पहनी हैं। जो की मेरे ऊपर बहुत ही सेक्सी लग रही हैं। क्लास के लिए निकाल ही रही थी कि मेरे पिता ने मुझे टीचर के घर पे छोड़ने को कहा। लेकिन मैने मना कर दिया। क्योंकि यह इतना दूर भी नहीं हैं ओर मैं अपनी बेस्टफ्रेंड के  साथ जाना ज्यादा पसंद करती हूं।
मैने घर के मैन डोर की चाबी लेकर क्लास के लिए निकल गई। रास्ते में बहुत से लड़के मेरी नंगी जांघो ओर  की और हवस कि नजर से देख रहे थे। ओर काफी लोग तो मुझे पलट पलट के देख रहे थे। जो की मुझे मन ही मन खुश किए जा रहा था। हम दोनों टीचर के घर पे पहुंच गए और उनके घर की डोर बेल बजाई। लेकिन दरवाजा उनकी पत्नी ने खोला और बोलने लगी की आज तुम सब लोगो की छुट्टी हैं। तुम्हारे टीचर किसी जरूरी काम से बाहर हैं।
यह सुनकर मैं अपनी फ्रेंड के साथ नजदीकी पार्क ने चली गई। ओर वहीं पे अधा घंटा समय बिताने के बाद हम दोनों  अपने-अपने घर की ओर चल पड़े।
जब मैं घर से निकली थी तब मॉम सो रही थी इसलिए उनको बिना डिस्टर्ब किए। मैने अपने बैग से फ्लैट कि चाबी निकाली ओर दरवाजा खोल के अंदर आ गई। मैने धीरे से दरवाजा बंद किया और लिविंग रूम से मॉम की हल्की सी आवाज आ रही थी। मैं गैलरी से लिविंग रूम की ओर बड़ी। लेकिन मैं अचानक से 2 कदम पीछे की ओर आ कर खड़ी हो गई। मैं पूरी चकित हो गई। मेरे सौतेले पिता सामने वाले सोफे पर बैठे हुए थे। ओर मॉम उनके लंड को हाथों से पकड़ के मुंह में ले रही थी।
यह सब देखकर में पूरी हिल गई थी ओर सोचने लगी कि  दोनों ये सब लिविंग रूम में कैसे कर सकते हैं? वो दोनों अपने कमरे में भी जाकर चुदाई का मजा ले सकते हैं। लेकिन मैं क्लास से जल्दी आ गई थी इसलिए उनकी भी कोई गलती नहीं हैं। मैं गैलरी की दीवार से झांक कर देखने लगी।  वो दोनों एक दूसरे से बहुत ही गंदी भाषा में बातचीत कर रहे थे। मेरी मां ब्लैक ब्रा और पैंटी पहने हुई थी ओर डैड ने सिर्फ टीशर्ट पहन रखा था।
मेरे सौतेले पिता सोफे पर हाथ पीछे की बिछाए बैठे हुए थे ओर मॉम उनके पैर के पास गुटनों के बल बैठ कर उनके लंड को किसी पोर्नस्टार के अंदाज में चाट रही थी। मेरे पिता  अपनी गर्म आवज काहर रहे थे। ओर उनकी आंखे बंद थी।  मेरे पिता ने मां के सिर को पकड़ के लंड को गले तक धकेलने लगे। जिसे मेरी मां कि सांसे रुक गई ओर आंखे बाहर की ओर आ गई। उनका लंड भी करीबन 7 इंच लम्बा और काफी मोटा हैं। मेरी मां लंड के सिरे पर हल्के-हल्के चूमे देने लगी ओर डैड की ओर देख के मुस्कुराने लगी। मेरे पिता बहुत ही सेक्सी मूड में थे और मॉम के गालों पर हल्के हाथ से थपड़ मर रहे थे जिसके जवाब में मॉम उनकी ओर मुस्कुरा रही थी।
मेरी मां खड़ी हुई ओर डैड की गोद में बैठ गई। अब दोनों ही एक दूसरे को पागलों की तरह किस्स करने लगे। ये सब देखकर मेरी हालत खराब हो रही थी। मेरी चूत गीली हो गई। लेकिन ये सब देखने में कुछ ज्यादा मजा आ रहा था। मेरे पैरेंट्स का सेक्स मुझे बहुत ही गर्म किए जा रहा हैं। मेरी मां ने डैड का टीशर्ट उतार दिया। ओर डैड ने मॉम की ब्रा और पैंटी उतार दी। मॉम सोफे पर टांगे फेला के लेट गई। मॉम की चूत बिल्कुल साफ़ थी। ओर चूत के रस ने भीगी हुई थी। डैड ने मॉम की चूत में 2 उंगलियां डालके फिंगरी करनी शुरू की। मेरी मां बहुत ही सेक्सी आवाज में कराह रही हैं। मेरे पिता ने उंगलियों को चूत से निकाल के मां के मुंह में डाल दिया। ओर साथ ने मां की चूत में एक ही झटके में लंड को पूरा डाल दिया।
मेरी मां की चीख निकल गई। अब ये सब देख के मुझसे भी अब रहा नहीं जा रहा था। मैने अपनी उंगलियों को स्कर्ट के अंदर अपनी चूत कि गहराई में उतार दी। मेरी चूत बहुत ही चिकनी हैं। ओर साथ ही पूरा शरीर गर्म हो गया। मेरी आंखो के सामने तो बस मेरे सौतेले पिता का लन्ड ही झलक रहा था। ओर बैकग्राउंड में मेरी मां कि चीखे पूरे कमरे में गूंज रही थी। 
अब मैं बता नहीं सकती कि मैं कैसा महसूस कर रही थी। मेरी टांगे कांप रही थी ओर शरीर में गर्मी अपने चरम पे दौड़ रही हैं। मेरे पिता पूरे जोश से मेरी मां को पेल रहे थे। इसी बीच मेरे पिता ने मुझे अचानक से देख लिया। लेकिन उन्होंने मेरी मां की चुदाई जारी रखी। उन्होंने मेरी ओर देखा और हल्की सी मुस्कुराहट दी। मैने भी उनकी ओर बड़ी आंखो से चोकते हुए देखा ओर दूसरी और मेरी मां की चीख चरम पे थी। मैने देखना बंद नहीं किया ओर अपनी चूत में उंगली करते हुए ये सब चुप चाप देखती रही।
करीब 5 मिनट बाद मेरी मां झड़ गई और पूरा शरीर ढीला छोड़ दिया। मेरे पिता अभी भी मेरी मां को पेल रहे थे। ओर 2 मिनट बाद मेरे पिता भी मेरी मां की चूत में रस छोड़ दिया। मेरी मां ने मेरे पिता को गले लगा दिया। ओर होठो पे किस्स करने लगी। मेरी मां नहाने के लिए  बाथरूम में चली गई। मॉम के अंदर जाते ही मेरे सौतेले पिता गैलरी में मेरे करीब आ कर खड़े हो गए। मेरे सौतेले पिता पूरा नंगे मेरे सामने खड़े थे। उनका लंड मेरे मां के पानी से भीगा हुआ था। मेरी आंखे तो उनके लंड से हटने का नाम नहीं ले रही थी।
मेरे पिता ने मेरा हाथ पकड़ा और मेरे रूम के अंदर लेकर आ गए। "तुम ये सब छुपकर कर क्यों देख रही थी?" मेरा उनके सवालों के जवाब देने का कोई इरादा नहीं था। मेरे बदन में तो आग लगी हुई थी। मैं उनके  पास गई और उनसे कस कर लिपट गई। ओर एक हाथ से उनका लंड पकड़ लिया। मेरे पिता कुछ समझ नहीं पा रहे थे और उन्होंने भी मुझे गले लगा दिया।
मैने हल्के हाथ से उनकी चमड़ी को ऊपर नीचे करने लगी। मैं उनकी ओर बहुत ही मासूमियत की नजर से देख रही थी। मेरे पिता बिस्तर पर बैठ गए। मैं उनके लंड को मुंह में लेने के लिए पागल सी हो रही थी। मैने उनका लंड मेरे मुंह में लपक लिया। ओर बहुत ही प्यार से उनके लंड पे अपनी ज़ुबान को ऊपर से नीचे फेरने लगी। बिल्कुल मेरी मां की तरह। उन्होंने आंखे बंद कर ली। मेरे पिता फिर से उतेजित हो गए। जैसे-जैसे मैं उनके लंड के ऊपरी सिरे पे ज़ुबान को फिरा रही थी। उनकी सांस और भी गर्म ओर लंबी होने लगी। 3 मिनट उनके लंड को चूसने के बाद उनका लंड फिर से पूरा खड़ा हो गया।
उन्होंने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी मिनी स्कर्ट को ऊपर की ओर कर दिया। मेरी पैंटी बाहर से लगभग पूरी गीली थी। उन्होंने झट से पैंटी को उतार दिया ओर मेरी चूत से लंड को सटा दिया।
मैने उनकी ओर देखा और कहा "डेड अगर मॉम को पता चल गया तो" उन्होंने कहा "उसे नहाने में काम से कम आधा घंटा लगता हैं। हमारे पास अभी पर्याप्त समय हैं।"
इतना कह के उन्होंने मेरी चूत में ज़ोर से धक्का दिया कि मेरी चिकनी चूत में उनका लन्ड फिसल के मेरी चूत में घुस  गया। मैं कराहने लगी। उन्होंने मेरे मुंह पे हाथ को रख दिया। ओर पूरी ताकत से झटके देने लगे। उनके मोटे लंड ने मेरी चूत के फाको को चौड़ा कर दिया। जिसे की मुझे बहुत दर्द हो रहा था लेकिन मैं दर्द को सहन कर रही थी।
मेरे पिता ने मेरा सर दोनों हाथो से कसकर पकड़ा हुए था ओर उनका सर मेरे बूब्स पे था। मैं बिल्कुल भी हिल नहीं पा रही थी। उनका लंड मेरी चूत कि गहराई तक पहुंच रहा था। ओर मेरी आंखे ऊपर की ओर चड़ गई। मैं बिल्कुल मदहोश हो गई। मैने अपने पिता की पीठ को दोनों हाथों से जकड़ लिया। वह एक ही रफ्तार से मेरी चूत में अंदर-बाहर हो रहे थे। लगभग 15 मिनट बाद उनका लंड मेरी चूत के अंदर ही झड़ गया।
मेरी मां अभी भी बाथरूम में ही थी। मॉम को पता ना चले इसके लिए मेरे पिता जल्दी से लिविंग रूम में गए ओर उन्होंने अपने कपड़े पहन लिया ओर मैने भी अपने कपड़ों ओर बालो को ठीक करके उनके साथ लिविंग रूम में बैठ गई..!!

4 comments:

मेरी कामुक सौतेली मां

यह पिछले साल को हुआ था और यह मेरे जीवन की 100% सच्ची है। मैं 18 साल का हूं और मेरी सौतेली मां 38 साल की थी। वह उस उम्र में बहुत ही रसीली ह...