Saturday, February 22, 2020

मौसी की चूत की आग को बुझाया। सेक्स स्टोरी

नमस्ते दोस्तो.. सेक्स स्टोरी की रंगीन दुनिया में आप सभी का स्वागत हैं। मेरा नाम सुमित हैं। ओर मेरी उम्र 18 साल हैं। ये उन दिनों की बात हैं जब मेरी गर्मी की छुट्टियां चल रही थी ओर छुट्टियां बिताने के लिए मेरी मां ने मुझे मौसी के वहा घूमने के लिए भेज दिया।

मौसी की उम्र 35 साल हैं।  मेरी मौसी दिखने में बहुत ही सेक्सी ओर जवान हैं। उनका 5 साल पहले ही अपने पति से तलाक हो गया। उनका 8 साल का एक बेटा भी हैं। लेकिन वो अपने पिता के साथ रहता हैं। जो की कभी-कभी मौसी से मिलने उसने घर पे आया करता हैं।

मौसी दिखने में बहुत ही गोल मटोल ओर गोरी हैं। लंबे बाल ओर बड़े बूब्स है। मौसी स्वभाव की बहुत ही अच्छी है और वह मुझे बहुत प्यार करती है।

मैं जो भी मांगू वो मुझे तुरन्त लेकर दे देती हैं। वो बहुत अमीर है क्योंकि उनकी तलाक के कारण उन्हें एक मोटी रकम मिली थी और मौसी के शहर में 3 घर है जो कि उन्होंने किराए पर दिया हुआ है। 

मैं नहीं जानता कि उन्हें सेक्स में ज्यादा रूचि है कि नहीं। लेकिन मेरा मौसी पे सेक्स आकर्षण तब से था। जब पहली बार मैने मौसी को स्नान के बाद कपड़े बदलते हुए उनके गोल-गोल बूब्स को देख लिया था। तब से मैं रोजाना मौसी को चोदने के सपने देखने लगा।

मैं हर रोज़ रात में अपने रूम में सोने से पहले उनके दिए हुए लॅपटॉप में ब्लूफिल्म देखता रहता हूँ।

मस्त चुदाई वाली फिल्में देखना मुझे बहुत अच्छा लगता है।मैं रात को बाथरूम में जाकर उनकी पेंटी में अपना लंड रगड़ कर अपना रस उनकी पेंटी से पोछता हूँ यह मैं हर दिन रात को सोने से पहले करता हूँ और कभी कभार अगर उनकी पेंटी नहीं मिले तो मैं बाथरूम में ही गिरा डालता हूँ।

फिर एक दिन अचानक से उनका बाथरूम में पैंटी रखना बंद हो गया और उनके स्वाभाव में भी बदलाव आ गया और वो हमेशा मुझसे गुस्से से बात करने लगी और करीब दो हफ्ते बाद जब मौसी मुझे सुबह उठाने आई तो में फ्रेश होकर किचन के पास डाइनिंग टेबल पर गया तो उनका मूड ठीक नहीं था और नाश्ता करते-करते हम इधर-उधर की बातें कर रहे थे

जैसे पढ़ाई के बारे में और उनके दोस्तों के बारे में और उनकी पार्टी वगैरा-वगैरा। फिर उन्होंने पूछा:

मौसी : सुमित आज रविवार हैं। मैं सोच रही थी कि अगर आज हम लंच बाहर करें और कहीं पर घूमने चलें तो कैसा होगा क्योंकि मैं बहुत बोर हो रही हूँ और फिर हम शाम को फिल्म देखने चले जाएंगे।

में : ठीक है मौसी मैं तैयार हो जाता हूँ और आप भी तैयार हो जाईए।

मौसी : ठीक है।

फिर हम लोग एक मॉल में गये वहाँ पर मौसी ने कुछ शॉपिंग की... मुझे कंप्यूटर गेम्स का बहुत शौक हैं। तो उन्होंने मुझे 4 गेम्स खरीद कर दिए। फिर हम लोगो ने मॉल में पिज़्ज़ा खाया और फिल्म देखने हॉल में घुसे तो फिल्म शुरू होने में अभी भी 20 मिनट बाकी थे तो हम बातचीत कर रहे थे। तभी अचानक मौसी ने कहा कि बेटा एक बात पूंछू.. सच सच बताएगा?

मैं : हाँ मौसी पूछो ना।

मौसी : तू मेरी पेंटी से हर रात को खेलता है क्या?

तभी मैं बहुत डर गया और एयर कंडीशनर में बैठकर भी मुझे पसीना आने लगा तो उन्होंने कहा कि बेटा रिलॅक्स हो जा और सच सच बोल दे में कुछ नहीं कहूँगी।

मैं: वो मौसी.. हाँ मैं वो करता था।

मौसी : क्या करता था?

मैं : मैं हस्तमैथुन करता था.. लॅपटॉप मे ब्लू फिल्म देखने के बाद.. मौसी मुझे माफ़ करना। मैं कभी भी नहीं करूँगा। मुझे बस एक बार माफ़ कर दो.. मौसी प्लीज़ गुस्सा मत होना।

मौसी : अरे बेटा रिलैक्स... कोई बात नहीं मैं भी कभी-कभी रात को चूत में उंगली करती हूँ। यह तो सब करते है इसमे गुस्सा होने की क्या बात है?

मैं: थैंक्स मौसी... सही में आप बहुत अच्छी हो।

मौसी : चल कोई बात नहीं।

फिर मैंने मौका बहुत अच्छा समझा उन्हें पटाने और उनकी चुदाई करने का तो फिल्म शुरू होने के बाद मैं जानबूझकर उन्हें दिखा-दिखा कर अपने लंड को सहलाने और दबाने लगा और मौसी भी मुझे हर बार देख रही थी। फिर करीब दस मिनट के बाद में झड़ने वाला था तो मैंने मौसी से कहा कि मौसी मैं टॉयलेट जा कर आता हूँ।

मौसी : क्यों रुक थोड़ी देर इंटरवेल के बाद में जाना।

मैं : नहीं मौसी मुझे अभी जाना है।

तो मौसी ने मेरा हाथ पकड़ कर बैठा लिया और कहा कि...

मौसी : क्यों, पैंटी उतार कर दूं क्या अगर इतनी जल्दी है तो?

मैं तो डर गया और मौसी से बोला कि नहीं मौसी ऐसी कोई बात नहीं है.. तो उन्होंने कहा कि कोई बात नहीं चल में चलती हूँ तुम्हारे साथ। फिर वो बाहर आई और मुझसे बोली कि।

मौसी : तू यहीं पर रुक मैं लेडिस टॉयलेट में जाकर पेंटी उतार कर लाती हूँ।

मैं : क्या सच में मौसी आप मुझे पेंटी लाकर दोगी?

मौसी : हाँ रुक मैं लाती हूँ।

फिर वो अंदर गयी और में बहुत टेंशन फ्री हो गया था। मौसी बाहर आई और चुपके से उन्होंने मेरे हाथ में अपनी पेंटी को दे दिया। फिर मैं अंदर गया तो मैंने देखा कि उनकी पेंटी थोड़ी भीगी हुई थी तो में समझ गया कि वो कामुक है। फिर मैंने उसी पर अपना वीर्य डाल दिया और बाहर आकर चुपके से मौसी को पेंटी दे दिया और मैंने सोचा कि वो अपने बेग में रख लेगी लेकिन वो अंदर टॉयलेट में जाकर पहन कर वापस आ गयी और मुझसे कहा कि मैंने पहन लिया है तो मैं और कामुक हो गया।

फिर उन्होंने मुझे कहा कि तूने तो पूरा गीला कर दिया तभी में हंस दिया और कहा कि मौसी मैं एक बात बोलूं तो क्या आप बुरा नहीं मनोगे ना?

मौसी : अरे नहीं बिल्कुल नहीं.. बेझिझक बोल दे।

मैं : मौसी मैने ज़िन्दगी में कभी चूत नहीं देखी। क्या मैं आपको एक बार नंगी देख सकता हूं?

मौसी : तुम तो सच में बड़े हो गए हो... लेकिन मैं ये सब नहीं कर सकती हूं। मैं तेरी मौसी हूँ यह नहीं हो सकता।

मैं : लेकिन क्यों मौसी? मैं सिर्फ एक बार ही आपकी चूत को देखना चाहता हूं।

मौसी : चल ठीक है लेकिन तेरी मम्मी, पापा या किसी और को भी इस बारे में पता नहीं लगना चाहिए... ठीक है।

मैं : चलो ठीक है मौसी।

फिर हम दोनों फिल्म देखकर घर वापस आए और रात का खाना बाहर से मंगवा लिया और जब रात को सोने जा रहा था तो मैंने मौसी को नंगी होने को कहा पर मौसी ने अभी के लिए मना कर दिया ओर कहा कल देख लेना आज नहीं। फिर मैने बिना कुछ बोले उनकी पेंटी माँगी तो वह बाथरूम में जा कर पैंटी के साथ ब्रा भी लेकर आ गई। और कहा कि पेंटी में तो तू कर चूका है मेरी ब्रा क्यों बाकी रहें?

और मैं उन्ही के सामने उनकी ब्रा को सूंघने लगा तो वो शरमा कर चली गयी। फिर थोड़ी देर बाद उन्होंने मेरे रूम में नॉक किया तब मैं उनकी ब्रा को अपने लंड पर रगड़ रहा था तो मैंने तुरंत टावल पहना और दरवाज़ा खोला तो देखा कि वो नाईटी में है और कहा कि मेरा अंडरवियर दे दो मुझे कुछ काम है।

तो मैंने कहा कि काम अच्छे से करना मौसी तो वो हंसने लगी और मेरा अंडरवियर लेकर चली गयी।

फिर अगले दिन लंच टाईम पर मैंने उनसे कहा कि..

मैं : मौसी एक बात कहूँ अगर आप बुरा ना मानो तो?

मौसी : हाँ बोल ना। 

मैं: अपने कल कुछ कहा था।

मौसी : अभी खाना खा लो फिर कमरे में चलते हैं। लेकिन तुम्हें भी एक वादा करना होगा। जो मैं बोलूंगी वो तुम्हें करना होगा।

मैं: आपके लिए कुछ भी करूँगा मौसी।

मैं बहुत ख़ुश हो गया ओर जल्दी से खाना खाने लगा। फिर हम कमरे में चले गये। मौसी मेरे सामने ही बिस्तर पर बैठ गई। मौसी कहने लगी कि मुझसे वादा करो कि तुम ये बात किसी को भी नहीं बोलेंगे। ओर मैने भी विश्वास देते हुए कहा कि मैं किसी को नहीं बताऊंगा। 

मौसी ने मेरी और मुस्कुरा के देखा। ओर धीरे-धीरे अपने सारे कपड़े उतारने लगी। अब वह सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी। उनका गोरा पेट ओर ब्रा में उनके बूब्स बहुत ही आकर्षित लग रहे थे।

मैं- अरे वाह मौसी आपके बूब्स कितने बड़े हैं।

मौसी - शायद इतना तुम्हारे लिए काफी हैं? (वह हसने लगी)

मैने मुंह को बिगाड़ लिया। ओर कहने लगा मुझे ओर भी बहुत कुछ देखना हैं। मौसी हसने लगी ओर हाथो को पीछे की ओर करके ब्रा के हुक को खोलते हुए ब्रा को हटा दिया।

ओर बिस्तर पर लेट गई। उनके बूब्स को देखते ही मेरे अंदर मौसी की चुदाई का जुनून सवार हो गया। मौसी बिस्तर पर लेटी हुई थी ओर उन्होंने कहा कि

मौसी - पैंटी अब तुम ही उतार दो।

मैं तुरन्त मौसी की पैंटी के पास गया और झट से उनकी पैंटी को उतार दिया। मौसी की चूत बहुत ही सेक्सी लग रही थी। चूत के बाल बिल्कुल साफ़ थे। जैसे उन्होंने आज ही शावे किया हो। 

शायद इस वजह से वो कल चूत नहीं दिखाना चाहती थी। मैं काफी देर तक उनकी चूत ओर बूब्स को देखता रहा ओर अपने लन्ड को जीन्स के बाहर से ही सहला रहा था।

मौसी - अब तो तुम ख़ुश होना ना?

मैं - ख़ुश? मैं बहुत ख़ुश हूं। आप बिना कपड़े में बहुत ही सेक्सी दिख रही हो।

मौसी - लेकिन मैं ख़ुश नहीं हूं। मेरी भी कुछ जरूरतें है। जिनको पूरा करने वाला कोई नहीं हैं।

मैं - आप मुझे बताइए आपकी सारी जरूरतों को पूरा कर दूंगा।

मौसी गहरी सोच में पड़ गई। ओर थोड़ी देर सोचने के बाद बोलने लगी।

मौसी - क्या तुम मेरी चूत की आग को बुझा सकते हो?

मौसी की बात सुनते ही ऐसा लगा जैसे उन्होंने मेरे मुंह की बात छीन ली। मैने ख़ुश होते हुए मौसी की ओर मुस्कुरा के देखा ओर उनकी बाहों में लेट गया।

मौसी ने मेरे सारे कपड़े उतार दिए। ओर मेरे लन्ड को हाथ से पकड़ के हिलाने लगी। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। मौसी  जीभ को लन्ड के टोपे पर फेरने लगी ओर मुंह में पूरा लन्ड लेकर चूसने लगी।

मौसी: सूमित तेरा लन्ड तो मेरी उम्मीद से बड़ा हैं मेरे मुंह में ही नहीं आ रहा।

मैं: सच कहूं तो आपको चोदने का सपना बहुत पहले से देखते आ रहा हूं जो कि आज पूरा होने वाला हैं।

मौसी हसने लगी ओर कहा अब तो तू जब तक यह पर रहेगा तब तक तू अपने सपने को पूरा करता रहना। तेरी मौसी ओर उनकी पैंटी तेरे लिए हमेशा तैयार हैं।

मौसी बहुत प्यार से मेरे लन्ड को चूस रही थी। मैने अपनी आंखे बंद करली। मौसी मेरे लन्ड को गले तक लेने की कोशिश करने लगी। ओर जीभ को नीचे से ऊपर तक फेरने लगी। काफी देर चूसने के बाद मौसी बिस्तर पर लेट गई।

मौसी ने पूछा इसे पहले कभी किसी लड़की को चोदा हैं। मैने नहीं बोला तो मौसी बोली चल मैं सिखाती हूं। ओर लन्ड को चूत में डालने को बोला। मेरा लन्ड बहुत ही जुनूनी हो गया था। 

मैने अपने लन्ड को मौसी की चूत से सटा दिया। मौसी की चूत बहुत गीली थी। मैने ज़ोर देते हुए लन्ड को मौसी की चूत में डाल दिया ओर पूरी रफ्तार से झटके देने लगा। मौसी के मुंह से चीखे निकलनी शुरू हो गई।

मौसी दोनों हाथो से मेरी कमर को खरोचने लगी। मेरी गति सातवे आसमान पे थी। 10 मिनट चोदने के बाद मैं मौसी की चूत में ही झड़ गया। मेरा लन्ड अभी भी उनकी चूत में ही था। ओर मैं उनके ऊपर लेट गया।

मौसी बोलने लगी कि तेरे वीर्य से मेरी चूत पूरी भर गई। ओर चूत में उंगली डाल के वीर्य को मुंह से चाटने लगी।

मेरी ओर मौसी की झिझक पूरी तरह से खत्म हो गई। हम दोनों एक दूसरे से खुल के बात करने लगे। हम दो घंटे नंगे ही लिपटे हुए सो गए।

जब 4 बजे मेरी आंख खुली तो देखा कि मौसी मेरे लन्ड चूस रही थी। मैने मौसी की ओर देखा ओर मौसी मुस्कुरा के बोलने लगी अभी तक तेरी मौसी की चूत की आग बुझी नहीं हैं।


दोस्तो कैसी लगी आपको मेरी कहानी कॉमेंट करके जरूर बताएं ओर शेयर करना ना भूले।

35 comments:

  1. Koi h jo delhi se h jo sex Krna chati h

    ReplyDelete
  2. Koi delhi ki h jo sex Krna chati h

    ReplyDelete
  3. Hamsafar kubsurat nahi..
    Bas kadar karne wala chahiye..

    ReplyDelete
  4. hello koi h banaras se jo chudna chahti h plss contact me

    ReplyDelete
  5. Mere lond bhot maza da ga koi chut he jo aaya gii

    ReplyDelete
  6. Any aunty or bhabhi from Lucknow.
    Wanna have fun

    ReplyDelete
  7. Gorakhpur deoria ki ladki bhabhi agar sex karna chahti hai to contact me email or whatsApp email . Samansari480@gmail.com whatsApp no. 7309554569

    ReplyDelete
  8. May ne story padie hai mujko bhut ache lage hai mera lund 6 inch ka hai or may punjab se hu or mujko ab apki chude ka ras pena hai

    ReplyDelete

मेरी कामुक सौतेली मां

यह पिछले साल को हुआ था और यह मेरे जीवन की 100% सच्ची है। मैं 18 साल का हूं और मेरी सौतेली मां 38 साल की थी। वह उस उम्र में बहुत ही रसीली ह...